दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है moral stories in hindi in 150 words के बारे मे हमे यकिन है। short story in hindi बहुत पसंद आयेगा | top 10 moral stories in hindi

Moral stories in Hindi

Moral stories in Hindi in 150 words

 

एक महिला शिवजी की भक्त थी हर सोम वार को शिवजी के मंदिर जाया करती थी। एक दिन हुवा युकी उस महिला को शिवजी को अर्पित करने के लिये फूल नही मिल रहे थे। इस लिए वो कही जगह पे फूल तोडने ने के लिये चली गई। 

उस महिला को एक घर के बगल मे बाग दिखा। उस बाग मे कही सारे फूल खिले हुवे थे। महिला को उस बाग मेसे गुलाब का फूल बहुत अच्छा लगा। वो महिला गुलाब का फूल तोड़ने के लिये जैसे ही हाथ आगे करती है। तब वहा पे एक जादूगरनी आ जाती है। 

जादूगरनी ने उस महिला को शार्प दिया तुम्ब भी एक गुलाब का फूल बनके रह जावोगी। वो महिला बहुत रोने लगी। अब मे मेरे घर कैसे जावूगी अब मेरे शिवजी की पूजा कैसे करुगी। वो यह कहके बहुत रोने लगी। 

जादूगरनी ने कहा देखो अब मैने यह जादू किया है वो मे वापस तो नही ले सकती हु। लेकिन हा तुम्ह हर दिन शिवजी की पूजा करने के लिये जा सकोगी। हा और शिवजी का कोई भक्त यहा से तुम्हारा फुल तोड़के शिवजी को अर्पित किया तो तुम्ह तुम्हारे अश्ली रूप मे आ जावोगी। 

अब महिला हर दिन शिवजी को गुलाब का फूल अर्पित करती है और वापस उस जादूगरनी के बाग मे गुलाब का फूल बनजाती है। हर दिन वो महिला गुलाब का फूल शिवजी को अर्पित करती है। तब एक आदमी सोच ता है यह महिला गुलाब का फुल कहा से लाती है। 

उस आदमीं ने वो महिला को पूछा आप कहा से ये गुलाब का फूल लाती हो। मुझे तो यह कही पे भी नही मिलता है। तब उस महिला ने कोई जवाब नही दिया। और वहा से चली गई। उस आदमीं ने दूसरे दिन उस महिला का पीछा किया और गुलाब का बगीचा धुंध लिया। 

अब वो आदमीं ने गुलाब का फूल तोड़ के शिवजी को अर्पित किया। वो महिला अब पुराने रूप मे आ गई और उस आदमी को धनियवाद किया। जादूगरनी ने उस अदमीको पूछा आपने यह कैसे किया यह गुलाब का फूल कैसे तोडा। 

तब वो आदमी कहता है सभी गर्दन के फूल मुजाये हुवे थे मुझे इस फूल मे ताजगी देखने को मिला। इस फूल मे जान देखने को मिला। इस लिये मैने यह फुल को तोड़ लिया। 

अब यह बात सुनके जादूगरनी के किये पे पस्तावा होने लगा। अब वो किसी को परेसान नही करती है। 

 

Moral stories in Hindi 

 

एक दिन एक बच्चा अपने पापा हो तंग कर रहा था कुछ ना कुछ समस्या पूछ के पापा अपना काम नही करने देता था। पापा ने बेटे को कुछ समस्या के जवाब दिये। अब पापा बेटे की समस्या पर्श्नो से तंग होंगे। 

एक मैप लिया और उस के छोटे छोटे टुकड़े कर दिये। बेटे को अब पापा कहते है यह टुकड़े तुम्हे जोड़ के मेरे पास आना। अब पापा अपना काम चैन से करने लगे। 

बेटे ने थोड़े समय के बाद मैप को कही तरहा से जोड़ दिया और पापा के पास गया। पापा मैप को सही तरहा से जुदा हुवा देखता है। तुरंत बेटे से पूछते है यह अपने कैसे जोड़ा। 

तब बेटे ने पापा को कहा मैप के पीछे काटूँन के चित्र थे। इस ठीक करता गया। वो सही तरहा रख दिया इस लिये मैप भी सही हो गया। 

Moral stories:- जीवन मे कोई भी समस्या आये उसे हमे सामना करना पड़ता है। तभी वो परेशानी का हाल मिल जाता है। 

 

short moral stories in hindi 

 
एक आदमी हर दीन आपकी भेस अच्छी तरहा से पालता था बडले में भेस उसे बहुत सरा दुध देती है । वो आदमी उस दुध को एक दुकान में भेच देता है । वो आदमी आपनी भेस के साथ बहुत खुश था । एक दीन दुकान सोच ने लगता है वो आदमी मुज्से दुध देके जाता है और बाद में मुस्कुराते हुवे चला जाता है ।
दुकान ने सोचा यह मुझे काम तो दुध नहीं देता है ना ।दुकान दार ने आब दुध को मापा उस में 100 ग्राम जैसे कम था । दुकान दार ने तुरंत सोचे समजे उस आदमी के उपर केस कर दीया । कोट के जंज ने उस आदमी को पुछा तुम्ह इसे सही तरीके से दुध देते हो । उस आदमी ने कहा में सही तरीके से दुध देता हु ।
जंज ने कहा दुध देने से पहले तुम्ह किस चिस से वजन मापा करते हो । तब उस आदमी ने कहा मेरे पास एक तराजु है उस में मापा करता हु । एक तरफ दुध और दुसरी तरफ दुकान से लीया हुवा ब्रेड ।वो दुकान दार को आब पता चल गया की में खुद ब्रेड का वजन कम रखता हु इस लीये दुध कम ही आयेगा ना । जंज उस आदमी को कुच नहीं कहा लेकिन जिस ने केस कीया था उसी की गलती बताय और जुर्माना भरने को कहा ।
मोरल – जो गलत करता है उसी के साथ गलत होता है । 

दोस्तो मुजे यकिन है कि moral stories in hindi आपको पसंद आयि होगि । यह Hindi Stories with Moral आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया Best moral stories in hindi लिखने का पसंद हो तो short moral stories in hindi ईमैल कर सकते हो | inspiring moral stories in hindi 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *