परोपकार motivational story on paropkar in hindi

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Motivational Story on Paropkar in Hindi के बारे मे हमे यकिन है | आपको paropkar story in hindi बहुत पसंद आयेगा । paropkar par kahani

 

                                            

 

 

motivational story on paropkar in hindi

 

 

एक शहेर मे भिखारी रहता था। वो  काफी बुजुर्ग हो गया था ठीक से चल भी नही पाता था। जब वो अच्छा था तो कही लोगो की मदद किया करता था। अब उसे ठीक से दिखा भी नही जाता है। 

वो दो दिन से भीख ना मांगने के कारण भूखा ही सोना पड़ता है। उसे बहुत जोर से भूख लगी थी लेकिन उसे कोई खाना लाके नही देता है। जोर जोर से चिल्लाता है मुझे खाना दो भूख लगी है। 

उस वक़्त कुछ स्कूल के बच्चे उस बुजुर्ग भिखारी को चिल्लाते हुवे देखते है। तब एक बच्चे ने कहा इस बुजुर्ग भिखारी ने मेरी मदद किया था जब मे साइकल चलते हुवे गिर गया था तब मुझे उठाया था। वो बच्चे तुरंत उस  भिखारे के पास जाते है उस से  पूछते है क्या हुवा। तब उस भिखारी ने कहा मुझे भूख लगी है मेंने दो दिनों से कुछ नही खाया है। मुझसे चाला नही जा रहा है और ठीक से दिख नही पाता है। 

वो बच्चे अब उस भिखारी के लिये भीख मांगने के लिये गये। सभी अलग अलग जाके भीख मांगने लगे। कुछ लोगो ने ऐसा कहा तुम्ह लोग स्कूल जाने के वजाये भीख मांग रहे हो। तो कुछ लोगो ने उस बच्चे लोग का पीछा किया वो क्या करने वाले है यह भीख मांगके। 

तब बच्चे भीख मे मिला खाना लेके उस भिखारी के पास जाते है तब लोगो की आँखे नम हो जाती है। लोगो ने पास आके बच्चे लोगो पर गर्व महसूस कियाकिया और कहा तुम्ह लोगो ने बहुत अच्छा किया किसी का भाला करना आज के जमाने मे कम देखा जाता है। आप लोगो ने तो छोटी सी उम्र मे भालाई का काम किया है। 

बच्चो ऐसे है आप लोग किसी ना किसी लोगो की भलाई करते रहो और आपको भीख मांगने की कोई जरूरत नही है। आज से हम लोग इस बुजुर्ग भिखारी को खाना देने के लिये आते रहेगे। 

इस प्रकार बच्चो ने किसी की भलाई करके दूसरे की आँखे खोल दिया। सभी लोग यह देख के जरूरत मंदो की मदद करेगे।

Read more

जुनून मोटिवेशनल || true motivational stories with moral

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है true motivational stories with moral  के बारे मे हमे यकिन है। true motivational stories बहुत पसंद आयेगा |short motivational story in hindi

 

 

 

true motivational stories with moral

 

एक लड़की बहुत समय के बाद आपने गांव पापा और मां के साथ आई थी । उसे बहुत समय शहेर में रहते हुवे निकाल दीये थे । उसे गांव में कोई नहीं पहचानता था । इस लीये वो अपने दादाजी के पास बैथी रहती थी और काहानी सुना करती थी ।

लड़की ने दादाजी को कहा मुझे सफलता और चुनौती के बारे में कुच एसी बाते बताये ताकी में अपने जीवन में कामीयाबी पा सकु । दादाजी ने कहा मेरे साथ चालो में तुम्हे कुच दिखाता हु । दादाजी उस लड़की को एक माली की दुकान पे ले गये और दो पौधे घरीदे । पौधे लेके अब घर आजाते है ।  

दादाजी ने एक पौधे को घर के अंदर लगाया और दुसरा पौधा घर के बाहार लगाया । दादाजी उस लड़की को पुछते है कौनसा पौधा ज्यादा निखरेगा और कौनसा पौधा आगे बडेगा । उस लड़की ने तुरंत कहा की घर में जो पौधा लगाया है वो ज्यादा मेहफुज है क्यु की उसे ताप नहीं लगेगा उसे पानी भी नहीं लगेगा उसे पवन भी नहीं लगेगा और बाहार वाले पौधे को गाय या बकरी खा सकती है उसे कोई कितानु भी लग सकते है ।  

वो लड़की अपनी स्कूल की छुट्टीया खतम हो जाने के बाद वो तुरंत शहेर में चली जाती है । वो लड़की अब काफी समय के बाद फिर से गांव में आती है उसे 5 साल के बाद वो गांव में आती है । वो अपने दादाजी के पास जाती है और कहती है दादाजी इस बार मुझे सफलता और चुनौती के बारे में कुच ना कुच तो बाताना पडेगा । उस बार तो आपने मुझे आपने कोई बात नहीं बताई थी लेकिन इस बार बताना होगा ।

दादाजी ने कहा बेटा तुम्हे याद है हम जो पौधे लाये थे । लड़की ने कहा हाँ मेंने कहा था नी घर में जो पौधा है वो अच्छी तरंहा रहेगा । दादाजी ने कहा लेकिन घर के बाहर भी तो देखो । लड़की ने सोच में पड गई यह कैसे हुवा इतना बडा पेड़ । तब दादाजी ने कहा बेटा तुम्हे पता है बहार वाला इतना बड़ा पेड़ कैसे बना । क्यु की इस पौधे ने दिक्कत और परेशानी का सामना कीया है । मुश्कील से मुश्कील परिस्थिती का सामना कीया है । इस लीये यह पेड़ बड़ा है । घर में जो पेड़ है उसने कोई परेशानी नहीं देखी । उसकी जडे कही नहीं फेली है बस चार दीवाल के बिच में फसी रही है । इस लीये आज यह पेड़ येसा है और बहार वाला पेड़ ज्यादा मज्बूत है ।

लड़की को एक बडी सिख मिली जिवान में आगे बडना है तो परेशानी का सामना करना पडेगा । हमे मुसीबत को जेलना होगा । हमे द्तकर रहना होगा और हमे अपना काम करना होगा ।

   

Moral :- जिवान में चाहे कितनी भी परेशानी क्यु ना आये हमे पिछे नहीं हतना है । उसका समना करना है उसे लडना है । चाहे हम हार जाये लेकिन उस हार में हमारी जित छुपी हुवी है । हमे जित ने के लीये हर दीन हार को जेलना है उस का मुकाब्ला करना होगा । तब जाके हमे जित मिल सकती है ।

Read more

मोटिवेशनल short स्टोरी इन हिंदी || motivational short story in hindi

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है motivational short story in hindi के बारे मे हमे यकिन है। best motivational story in hindi बहुत पसंद आयेगा | motivational story in hindi

motivational short story in hindi

 

motivational story in hindi

 

जिवन में किसी ना किसी को एक फेसला लेना पडता है । चाहे वो अपने केरीयल के लीये हो या अपने दुखो मेसे आगे बडने के लीये । येसी ही एक कहाँनी है जो करुण मां ने फ्रेसला अपने जिवन में लीया है ।

मां गर्भवती थी डोक्टर अपना बेस्ट मेसे बेस्ट कोशिश कर रहे थे । मां और बच्चे को बचाने के लीये । पुरा दीन निकल गया लेकिन आखीर में डोक्टर किसी एक को बचा सक्ता है । मां को बचाता है तो बच्चा मार जाता है । बच्चे को बचाता है तो मां मर जाती है ।

डोक्टर यह फेस्ला मां पे छोड देते है मां को कहते है हम क्या करे आप ही हमे रास्ता दिखा सक्ते है । मां बिना सोचे डोक्टर को कहा मेरे बच्चे को बचाये मेंने तो मेरा जिवान जी लीया है । अब मेरा बच्चा जीयेगा ।

डोक्टर ने मां की बात सुनके हेरान से हो गये । अब डोक्टर ने बच्चे को बचाया । जैसे ही बच्चा मां के पेट से बहार आता है तो वो तुरत रोने लगता है। डोक्टर ने तुरत बच्चे को मां की ग़ोडी में रख देते है ।

वहाँ बच्चा रो रहा था । मां अपने अंतीम पलो में बच्चे को किस्सी कर रही थी । दुसरी जगह मां की करुणा देखते हुवे डोक्टर की आंखो नम हो रही थी। बच्चे ने मां की अंतीम पालो में मां का हाथ थाम लीया । मां को अब सुकुन मिला । अपने अंतीम पलो में बच्चे ने मेरा हाथ थामा । मां अपने बच्चे को गले लगाके इस दुनीया से अलवीदा कहती है । बच्चा जोर जोर से रोने लगता है ।

डोक्टर ने तुरत उस बच्चे को उथा लीया और उसे वहाँ से दुसरी जगह पे ले गये । पुरा सन्नाता छा गया थोडी देर तक उस जगह पे केवल बच्चे की आवाज गुज्ती रही ।

जिवान में किसी ना कीसी को एक फेस्ला लेना पडता है वो चाहे गलत हो या सही । जब तक फेस्ला नहीं लेते तब तक हम वही उलजे रहते है । उस परिस्थिति से हम बाहर नहीं निकल पाते है । हम डरे डरे रहते है अपने आपको हम अंधेरे में दालते जाते है । हम खुद हमारा जिवान को आगे बडने से रोक रहे होते है ।

जिवान में हमे एक फेस्ला लेना जरुरी है उस फेस्ले से हमे काफी कुच सिखने को मिलता है । 

 

Read more

मोटिवेशनल शार्ट स्टोरी इन हिंदी || short motivational story in hindi

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Short motivational story in hindi  के बारे मे हमे यकिन है। true motivational stories बहुत पसंद आयेगा | motivation story hindi  

 

 

 

हार को हराना है तो जितने के लिये खुद को मेहनत करनी होगी, 

रिकॉड बनना है तो अपने कंफर्ट जॉन से बाहर निकल ना होगा। 

 

Short motivational story in hindi

 

दो दोस्त थे एक दिन दोनो दोस्त तालाव के किनारे बैठ के बात कर रहे थे। एक दोस्त को एक रंगबे रंगी पठर मिला। दोनो ने सोच हम यह पठर को एकथा करते है और मछली घर वाले को बैच आते है। अब दोनो तालाव से पठर निकाल ने लगे छोटे बड़े छोटे बड़े इस तरहा पथर निकालते रहे। उस वक़्त एक दोस्त को बड़ा वाला रंगबे रंगी पठर मिला वो बहुत खुस हो गया। 

दूसरे दोस्त ने सोचा काश ये मुझे मिलता मे भी अच्छी कमाई कर लेता। अब उस ने जो छोटे वाले पठर एकथा किये थे उसे फेक दिये और बड़े वाले पठर को ढूँढने लगा। बडे पठर को ठूँठने ने के चक्कर मे साम हो गई साम से रात हो गई। लेकिन उसे बड़ा पठर नही मिला। 

अब दोनो घर लोट आते है और मछली घर वाले के पाछ जाके पथर दे देते है। मछली घर वाले ने बड़े पठर को 1000rs दिये और छोटे छोटे पठर के 3000rs दिये। 

तब तुरंत दूसरा दोस्त उस मछली घर वाले को पूछता है ऐसा क्यु किया बड़े के दाम क्यु कम दिये और छोटे के क्यु ज्यादा दिये। तब मछली घर वाले ने कहा मुझे छोटे छोटे पठर की ज्यादा जरूरत है बड़े पठर की कम जरूरत पड़ती है। इस लिये मैने किमंत इस तरहा से दिया। 

अब दोनो रास्ते मे बात कर रहे थे दूसरे दोस्त ने कहा काश मैने छोटे छोटे पठर को नही फेका होता और बड़े पठर की खोज मे नही गया होता। तुम्ह बहुत नसीब दार हो जो मुझे पैसे कमाये। 

तब पहले दोस्त ने कहा मैने छोटे छोटे पठर से शुरुआत किया मुझे बड़ा पठर मिला तो मैने उठा लिया। लेकिन मैने कभी भी छोटे पठर को उठाना नही छोड़ा मुझे मिलते गये तो मैंने उठा लिये। 

जीवन मे हमेशा छोटे छोटे काम करते हुवे आगे बड़ना चाहिये ताकी हमे बडे काम करते समय आसफलता मिले तो हमे अफसोस ना रहे। किसी भी का को हमे अंदेखा नही करना है चाहे वो छोटा हो या बड़ा। 

छोटे छोटे काम ही हमे कामीयाबी के रस्ते पे ले जाते है। बडे काम करने जाते है तो हमे अक्सर असफलता देखने को मिलती है। इस लिये हमे शुरुआत छोटे छोटे काम करके ही करना है। कभी भी हमे छोटे कामो को छोड़ना नही है। 

 

Read more

motivational story in 100 words

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है motivational story in 100 words के बारे मे हमे यकिन है। true motivational storiesबहुत पसंद आयेगा | top 10 moral stories in hindi
 
motivational story in 100 words

motivational story in 100 words

 

 

एक गाँव मे एक चित्र कार रहता था। उसने खूबसूरत चित्र बनाके चौराहे पे रख दिया। और एक कागज मे लिखा जिस किसी को इस चित्र में कमी दिख रही है वो हमे हमे बतायेयह लिख के वो चित्र कार चला  कुच समय के बाद वो चित्र कार फिर आता है और अपने चित्र की तरफ देखता है उस चित्र पे काफी लोगो ने खामिया निकाली थी। वो अपने आप पे गुस्सा करने लगा। मैने इतनी अच्छी चित्र बंनाई है। लेकिन सभी ने मेरे चित्र पे खामी निकाली है। 
वो चित्र पकड़ के वहा बैठ गया। वो बहुत उदास है गया था इतने मे उस का एक दोस्त गुजर रहा होता है उस की नजर अपने मायूस हुवे दोस्त पे पड़ती है। वो तुरंत अपने दोस्त के पास जाता है और उसे पूछ ता है क्या हुवा है तुम्ह क्यु उदास बैठे हो। 
तब चित्र कार ने उसे ये सारी बात बताई। तब दोस्त ने कहा तुम्ह फिर से एक चित्र बनाके वहा पे रख दो और उसमे लिखो जिस किसी को यह चित्र मे खामी दिख रही है वो इसे सही कर दे। यह लिख के वो वहा से चला गया। 
अब दोनो दोस्त कुछ समय के बाद फिर से आते है वो देखते है। चित्र पे किसि ने कोई प्रतिक्रिया नही दिखाया है। वो जैसा था वैसा ही है। किसी ने कोई खामी नही दिखायी थी। वो बहुत खुश हो गया और अपने दोस्त को या बात के लिये ध्यनियावाद किया। 
उस दोस्त ने चित्र कार को कहा लोगो के पास बहुत समय है बुराई करने के लिये अपने काम मे खामी निकाल ने के लिये लेकिन किसी को यह सही करने का समय नही है। बस सब लोग गलतिया निकाल ते है लेकिन उस गलती को सुधारते नही है। 
शिख :- हमे हमारे काम पे विश्वास रखना चाहिये। लोगो की तो आदत है बुराई करने की हमे पूरे मन से हमारा कम करना है। 

Read more

प्रेरणादायक कहानियां ॥ short motivational stories with moral

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है short motivational stories with moral  के बारे मे हमे यकिन है। hindi motivational kahani बहुत पसंद आयेगा motivational story in 100 words

 
short motivational stories with moral

 

 

 short motivational stories with moral

 

एक गाँव में एक आदमी नदी के किनारे बैठा हुवा था। उस के साथ एक कुत्ता भी था लेकिन वो नाले मे गिरा हुवा था और वो कुत्ता भोख रहा था।  तब वहा से एक महिला गुजर रही थी वो कुत्ते के भोख ने के आवाज सुनके वो उस आदमीके पास जाती है और कहती है ये आपका कुत्ता है? उस आदमी ने कहा जी हा ये मेरा कुत्ता है। तो महिला कहती है क्यु फिर उसे नाले से निकलते क्यु नही हो। 

तब उस अदमिने कहा ये छोटा सा नाला है। इस मेसे निकल ने के लिये प्रयास किया जा सकता है और ये कुत्ता बिना प्रयास किये भोख रहा है। चलो मे इस बार इसे बचा लेता हु तो इसे आदत सी हो जायेगी। 

इस लिये मे ऐसे खुद निकल ने के लिये कह रहा हु। 

Moral stories:- जीवन मे सफल होना है तो हमे प्रयास करना चाहिये बिना प्रयास किये कभी सफल नही बनते है। 

 


letetstbusiness को जानने केलिये अही किल्क करे।

Read more

Holi Happiness: Kiara & Sidharth’s Radiant Selfie on Instagram Taapsee Pannu Weds Mathias Boe Neha Malik Holi Celebrations share boldness pic Instagram holi wishes in hindi एक छोटी सी प्यार की कहानी – short love story in hindi